Sunday, 1 January 2017

India's Deadliest ice road killar kishatwar bike trip in december

India's Deadliest ice road killar kishatwar bike trip in december 

दुनिया की सबसे मुश्किल किल्लार किश्तवार रोड की बाइक यात्रा


यात्रा की कुछ यादे -

                               इस शानदार ऐतिहासिक यात्रा की शुरुवात यात्रा ग्रुप से हुई, ये यात्रा ग्रुप ( travel talk ) हमारे घुमक्कड़ भाइयो का एक समूह है जहाँ हम कुछ भी उल्टी या सीधी यात्रा करने से पहले चर्चा करते है मुझे तो बहुत पहले से ही उल्टी यात्राएं करने का कीड़ा कटा हुआ है और यहाँ तो बहुत सारे मेरे जैसे है जिनको उसी कीड़े ने कटा है इसीलिए यहाँ यात्रा के अवसर आते रहते है बस आपकी तैयारी होनी चाहिये । इस ग्रुप के नियम बहुत सख्त है जिनकी वजह से कई बार साथी यहाँ रह नहीं पते है पर जो रहते है उनके साथ हर यात्रा की तैयारी करते है ये सब लोग गुरु है जिनके सहयोग से बहुत यात्राएँ करनी है सब एक से बढ़कर एक घुमक्कड़ है जैसे जैसे यात्राएँ होती रहेगी सबका परिचय भी आपके पास आता रहेगा।

                              सबसे पहले आपको जानकार गर्व होगा की इस बाइक ट्रिप पे दिसम्बर में आजतक कोई नहीं गया है हम चार वो पहले बाइकर है जिन्होंने इस बाइक ट्रिप को पूरा किया और इसका पूरा पूरा श्रेय श्री मान सनी मलिक महाराज को जाता है इसका परिचय अगले भाग में आयेगा, इस दुर्गम बाइक ट्रिप की शुरुवात डलहौजी से 114 किमी दूर पर स्थित बैरागढ़ गॉव से चालू होती है बैरागढ़ से साच पास लगभग 32 किमी भयानक दुर्गम रोड वाला रास्ता है जिसमे बहुत जगह पानी के झरने रोड पे ही चलते है जो गर्मी और सर्दी दोनों समय मुसीबत का पर्याय है एक दम खड़ी चढ़ाई और पत्थरो से बना रास्ता ये पहचान है यहाँ की, साचपास की ऊंचाई 4420 मीटर 14500 फ़ीट है जहाँ गर्मियों में भी दिन का तापमान माइनस में बना रहता है तो सर्दी की कल्पना तो हम कर ही सकते है वहा से किल्लर की दुरी 40 किमी है जो की इतनी मुश्किल रोड है की सर्दी में उस साइड से वापस साचपास आना लगभग नामुमकिन ही है एक दम सुखी ठण्ड और भयानक मोड़ साथ में खड़ी चढ़ाई।
               
                                  .... शायद जो वहा जाता है वही इस बात को समझ सकता है शब्दो में बयां करना नामुमकिन है उस साइड भी सड़क पे गिरते बर्फ के झरने इस सफर की बहुत बड़ी मुसीबत है इस रोड की सबसे बड़ी खासियत इस समय यहाँ इका दुका वाहन ही चलते है तो आपको कुछ समस्या होने पे सहायता की उमीद बहुत कम होती है जो होगा आपको खुद निपटना पड़ेगा। खेर इससे आगे की किल्लार से किश्तवार की रोड के बारे में तो क्या कहने वो इस रोड से कम से कम 5  गुना ज्यादा खतरनाक है और मैं कोशिश करूँगा की उस सफर को आपके सामने उसी रूप में उतार पाऊ,  हा रास्ते की सबसे बढ़िया जगह किल्लार क़स्बा है  सच में उमीद से बहुत ज्यादा है यहाँ किल्लर कस्बे से डाम्बर रोड कम से कम 80 किमी की दुरी पर है फिर भी यह क़स्बा अपने आप में बहुत कुछ समेटे है यहाँ से किश्तवार की दुरी 120 किमी है और किश्तवार से पटनीटॉप की दुरी भी 120 किमी है बस इतना ही मुश्किल सफर है 
                      दोस्तों आगे इस यात्रा की तैयारी का प्लान केसे बना और हमारे खास दोस्तों का परिचय जिनकी साथ हमने ये यात्रा करनी है जल्द ही लेके आयुंगा उमीद करता हु आप मेरा साथ देंगे जो भी राय हो जरूर दे जिससे यात्रा की ज्यादा से ज्यादा जानकारी दे पाऊँ। 
                               
अब मैं हर यात्रा का एक विडियो भी बनायूंगा जो आप मेरे youtube चैनल पे देख सकते है  ये मेरा पहला विडियो है उमीद करते है आपको पसंद आएगा। मेरे सभी विडियो देखने के लिए आप मेरे  चैनल को सब्सक्रइब कर सकते है 

अपनी राय youtube  पे जरूर दे।


पूरा यात्रा वर्तान्त पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे
India's Deadliest ice road killar kishatwar bike trip in december
1. sach pass ice road दिल्ली से बैरागढ़
2. sach pass ice road बैरागढ़ से किल्लार - भयंकर

No comments:

Post a comment